Covid-19 Vaccine Updates: क्यों फाइजर की कोरोना वैक्सीन भारत के लिए नहीं है कोई सौगात?

कोरोना वायरस (Covid-19) महामारी के बीच ब्रिटेन से एक राहत देने वाली खबर सामने आई है. ब्रिटेन ने अपने नागरिकों के लिए Pfizer की कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है. इसके साथ ही आने वाले कुछ ही दिनों में Pfizer/Biontech कोरोना वायरस वैक्सीन ब्रिटेन में आम लोगों को मुहैया करवाई जाएगी. हालांकि ब्रिटेन का ऐलान भारत के लिए कोई सौगात लेकर नहीं आया है.

भारत में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या एक करोड़ के आंकड़े की तरफ बढ़ रही है. विश्व में कोरोना वायरस के कारण भारत सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में अमेरिका के बाद दूसरे नंबर पर है. ऐसे में भारत को कोरोना वैक्सीन की काफी ज्यादा दरकार है. लेकिन ब्रिटेन की ओर से Pfizer की कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल को मंजूरी देना भारत पर किसी भी प्रकार का सकारात्मक असर नहीं डालेगा.

Pfizer की कोरोना वायरस वैक्सीन का रखरखाव काफी अहम है. इस वैक्सीन को लगभग -70C पर संग्रहित किया जाना चाहिए. इस वैक्सीन को एक बार अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचाने के बाद इसे फ्रिज में पांच दिनों तक रखा जा सकता है. वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि भारत में तापमान अलग है. भारत गर्म देशों की लिस्ट में आता है. ऐसे में भारत के तापमान के हिसाब से ये वैक्सीन भारत के लिए सौगात नहीं है.

संग्रहण काफी मुश्किल

विशेषज्ञों का कहना है कि Pfizer की कोरोना वैक्सीन को प्रीजर्व करना काफी मुश्किल है. फाइजर की कोरोना वैक्सीन को माइनस 70 Degree तापमान में संग्रह करना होगा. वहीं भारत का तापमान काफी ज्यादा है. ऐसे में भारत में इस वैक्सीन को संग्रह करना काफी मुश्किल होगा. यह वैक्सीन भारत के तापमान के हिसाब से नहीं बनी है. जबकि भारत में जिन वैक्सीन पर काम चल रहा है, वह यहां के तापमान के हिसाब से बनी है.

दो खुराक देना पड़ेगा महंगा

इसके अलावा ब्रिटेन(Britain) में नागरिकों को फाइजर वैक्सीन(Pfizer Vaccine) की दो खुराक दी जाएगी. ब्रिटेन की जनसंख्या सात करोड़ से भी कम है. ऐसे में ब्रिटेन की संख्या को दो खुराक देने में ज्यादा समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा. हालांकि भारत की 130 करोड़ की आबादी को फाइजर वैक्सीन की दो खुराक देना ज्यादा पेरशानी वाला और महंगा पड़ेगा.

वहीं हाल ही में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने इस बात पर जोर देते हुए कहा था कि भारत को फाइजर की Covid-19 वैक्सीन की जरूरत ही न पड़े, क्योंकि देश के अंदर जिन वैक्सीन के ट्रायल किए जा रहे हैं उसने अभी तक बेहतर परिणाम दिखाए हैं. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था कि फाइजर की वैक्सीन के बारे में सोचने का कोई मतलब नहीं बनता है.

31 दिसंबर तक 5 लाख में SUV खरीदने का मौका, 11 हजार में करें बुक

Related posts

Leave a Comment