कोरोना काल में पैसेंजर ट्रेनें न चलने और माल ढुलाई कम होने से रेलवे को 24 हजार करोड़ का नुकसान

कोरोना काल में पैसेंजर ट्रेनें और माल ढुलाई न चलने और कम होने से रेलवे को 24,717 करोड़ रुपए के नुकसान का अनुमान। इसमें करीब 18,399 करोड़ रुपए पैसेंजर ट्रेनों (12 अगस्त तक) और करीब 6,318 करोड़ रुपए माल ढुलाई के (तीन माह) शामिल हैं। राहत की बात यह है कि माल ढुलाई मेें पिछले वर्ष की तुलना में महज 20% की कमी आई है। हालांकि पैसेंजर से मिलने वाले राजस्व में 86% की कमी आई है। पैसेंजर भी 2% से कम रह गए हैं। फिलहाल केवल 230 स्पेशल ट्रेनें चल रही हैं।

रेलवे को 24 हजार करोड़ रु. का नुकसान

रेलवे ने 22 मार्च को सभी 13 हजार से अधिक ट्रेनें रद्द कर दी थीं, जो 12 अगस्त तक नहीं चलेंगी। हालांकि 8 हजार से ज्यादा मालगाड़ियां रोज चलती थी। रेलवे बोर्ड सदस्य (यातायात) पीके मिश्रा बताते हैं कि 2019 की तुलना में तीन माह में औसतन 80% तक माल ढुलाई हुई है। इस तरह कोराेना से 20% ढुलाई का नुकसान हुआ। रेलवे बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार स्पेशल ट्रेनें छोड़ दें तो सामान्य ट्रेनें न चलने से टिकटों के राजस्व में 144 दिन (12 अगस्त तक) में 18,399 करोड़ रु. के नुकसान का अनुमान है।

पैसेंजर ट्रेनें न चलने से नुकसान: 18,399 करोड़

रेलवे को 24 हजार करोड़ रु. का नुकसान

230 स्पेशल ट्रेनों से रोज 22 करोड़ रुपए आय हो रही है। 4600 श्रमिक ट्रेनों में 62 लाख पैसेंजरों से 372 करोड़ की आय हुई है। 23 मार्च से 12 अगस्त तक 144 दिन में 21,939 करोड़ का नुकसान अनुमानित है। 12 मई से 12 अगस्त तक 3,168 करोड़ आय अनुमानित है।

आर्ट ऑफ लिविंग का सोशल मीडिया सुपर ऐप एलिमेंट्स

Related posts

Leave a Comment