निर्भया के दोषियों को फांसी का खौफ, नींद उड़ी, खाना-पीना छूटा

फांसी के डर से निर्भया के दोषियों का हुआ बुरा हल – खौफ के मारे उडी नींद, खाना पीना छूटा
खबरों के मुताबिक तिहाड़ जेल में बंद निर्भया के चारो आरोपियों को 16 दिसंबर को फांसी पर लटकाया जा सकता है । वह सुनते ही चारो दोषियों (अक्षय, मुकेश, विनय और पवन) की नींद उड़ चुकी है । घबराहट के मरे उनका खाना पीना छूट गया है ।

निर्भया गैंगरेप हत्याकांड में दोषी पाए गए चारो आरोपियों की दया याचिका पर अभी राष्ट्रपति का फैसला नहीं आया है । लेकिन तिहाड़ जेल का माहौल कुछ अलग नजर आ रहा है । ऐसा लग रही है की वह के कर्मचारी चारो दोषियों (अक्षय, मुकेश, विनय और पवन) को फांसी देने की तैयारी कर रहे हो । इस बात की भनक निर्भया रेपिस्ट को लग गई है तभी उनकी हालत ख़राब हो गई और उनका खाना पीना सब छूट गया है ।फांसी के डर से निर्भया के दोषियों का हुआ बुरा हाल - खौफ के मारे उडी नींद, खाना पीना छूटा 

निर्भया के दोषियों में फांसी का खौफ – दिनभर काट रहे चक्कर

निर्भया गैंगरेप और हत्या के दोषियों को तिहाड़ की जेल नंबर 2 के वार्ड नंबर 3 के तीन सेल में रखा गया है । चौथे कैदी विनय शर्मा को जेल नंबर 4 में रखा गया है । ये सभी खौफ में है की कही उनको फांसी तो नहीं दे दी जाएगी । आपको बता दे की 16 दिसंबर या 29 दिसंबर में से किसी एक दिन इन चारो को फांसी के तख्ते पर लटकाया जायेगा । अभी वो ठीक से भोजन भी नहीं कर पा रहे है । फांसी की खबर से वो इस कद्र खौफ में है की अब दोषी अपने-अपने सेल में देर रात तक चक्कर काटते रहते हैं। किसी भी दोषी को कोई दवा नहीं दी गई है, लेकिन इन्हें तरल पदार्थ और ठोस भोजन इस तरह से दिया जा रहा है कि इनका रक्तचाप सही रहे।

चारों दोषियों को फांसी देने वाली दया याचिका पर अभी राष्ट्रपति की ओर से कोई अंतिम फैसला नहीं आया है। लेकिन इससे पहले तिहाड़ जेल में फांसी कोठी और अन्य चीजों की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। दोषियों को 16 या फिर 29 दिसंबर (निर्भया की मौत हुई थी इस दिन) को फांसी पर लटकाया जा सकता है।

बक्सर से रस्सी और यूपी से जल्लाद मंगाया जायेगा ।

तिहाड़ जेल के वरिष्ठ अधिकारी का कहना है की बक्सर से रस्सी मंगाई जाएगी । अभी भी प्रशासन के पास पांच रस्सी है लेकिन अगर इन चारो को फांसी दी जाती है तो तिहाड़ जेल के पास जो पांच रस्सिया है वो कम पद जाएगी । इसलिए हम बक्सर प्रशासन से संपर्क कर रहे हैं। वहां से फांसी देने वाली स्पेशल 11 रस्सी मंगाए जाने की बात है। इन्हें जल्द मंगा लिया जाएगा ।

अधिकारी का कहना है कि यूं तो फांसी देने के लिए जल्लाद की कोई जरूरत नहीं है। लेकिन फिर भी जरूरत महसूस हुई तो यूपी, महाराष्ट्र या फिर बंगाल से जल्लाद बुलाया जा सकता है।

जेल नंबर 3 में फांसी का बना है तख्ता

तिहाड़ जेल नंबर 3 (जिसमे संसद हमले के दोषी आतंकवादी अफजल को रखा गया था) फांसी के लिओए तख्ता बना हुआ है जेल नंबर-3 की डयोढ़ी में प्रवेश करने के बाद गेट से जेल के अंदर जाते ही सीधे हाथ की ओर फांसी कोठी के लिए रास्ता जा रहा है। यहां फांसी कोठी से लगते हुए ही 16 हाई रिस्क सेल हैं। इसी से लगती करीब 50 स्कवॉयर मीटर जगह में फांसी कोठी बनाई गई है। इसके गेट पर हरदम ताला लगा रहता है।

Related posts

Leave a Comment