अमेरिकी वैज्ञानिकों की नई रिसर्च : कोरोना कहां अधिक फैला आपके मोबाइल फोन से पता किया जा सकता है

आपके मोबाइल फोन के लोकेशन डाटा से कोरोनाकाल में बड़ी जानकारियां मिल रही हैं। इससे कोरोना प्रभावित एरिया की पहचान की जा सकती है और लॉकडाउन दोबारा लागू करना है या नहीं, यह भी तय किया जा सकता है। मना किए जाने के बावजूद लोग कितना घर से बाहर निकल रहे हैं, इसे भी ट्रैक किया जा सकता है। यह दावा अमेरिकी वैज्ञानिकों की नई रिसर्च में किया है।

अमेरिका (America) में वर्कप्लेस पर मोबाइल को इस्तेमाल करने का समय घटा है क्योंकि लोग घरों में थे। इस दौरान कोरोना के मामले कम थे। यह रिसर्च करने वाली अमेरिका की पेन्सेल्वेनिया यूनिवर्सिटी (University of Pennsylvania) के रिसर्चर्स कहते हैं, रिसर्च के नतीजे उम्मीदोंभरे हैं। महामारी में मोबाइल लोकेशन डाटा पॉलिसी बनाने में मदद करेगा कि कहां खतरा अधिक है।

कोरोना कहां अधिक फैला आपके मोबाइल फोन से पता किया जा सकता है

इस रिसर्च में शामिल हार्वर्ड मेडिकल स्कूल (Harvard Medical School) के असिस्टेंट प्रोफेसर शिव टी. सेहरा कहते हैं, लोकेशन का डाटा गूगल पर सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध है। रिसर्च अमेरिका में जनवरी औरMay 2020 की शुरुआत में की गई। जनवरी में हालत नहीं बिगड़े थे और मई में लॉकडाउन लागू था। दोनों महीने के डाटा की तुलना की गई। रिसर्च के लिए लोगों की लोकेशन का डाटा छोटे-छोटे हिस्सों में जगह के हिसाब से बांटा गया। जिन्हें ट्रैक किया जा रहा था, उनके घर से वर्कप्लेस (Office), घर, रिटेल स्टोर, ग्रॉसरी स्टोर, पार्क और ट्रांजिट स्टेशन कितने दूर हैं, इसका पता लगाया गया।

बिना मास्क बाजार गए तो इतना जुर्माना, CCTV से नजर रख रही है Delhi Police

Related posts

Leave a Comment