LPG कनेक्शन पर आर्थिक मदद दे रही है मोदी सरकार, जानिए कैसे मिलेगा आपको फायदा

क्या आप LPG कनेक्शन पैसों की तंगी की वजह से नहीं ले पा रहे हैं और BPL (Below Poverty Line) में आते हैं, तो आपके लिए खुशखबरी है. साल 2021 के आम बजट में केंद्र सरकार ने एक करोड़ और लोगों तक उज्जवला योजना (Ujjwala Yojana) का फायदा पहुंचाने का लक्ष्य रखा है.

कैसे ले गैस कनेक्शन?

उज्जवला योजना का लाभ BPL परिवार की कोई भी महिला ले सकती है. इसके लिए अपने घर की नजदीकी LPG Gas Agency में केवाईसी (KYC) फार्म भरकर जमा करना होता है. इसके अलावा Ujjwala Yojana का फॉर्म प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की वेबसाइट से डाउनलोड करने के बाद उसे पूरा भरकर Gas में दिया जा सकता है. कनेक्शन लेते समय आवेदक को लिखित जानकारी देनी होती है कि आपको कौन सा सिलेंडर लेना है. घरेलू गैस के लिए 2 तरह के सिलेंडर आते हैं. पहला 14.2 और दूसरा 5 KG का.

आपको गैस एजेंसी को अपने गैस सिलेंडर का विकल्प बताना होता है. योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक को बीपीएल कार्ड. राशन कार्ड (Rashan Card), आधार कार्ड (Aadhar Card), वोटर आईडी कार्ड (Voter ID Card), राशन कार्ड, बैंक स्टेटमेंट जैसे कागजात की कॉपी लगानी होती है. पासपोर्ट साइज का एक फोटो भी गैस एजेंसी को देना होता है. इसके बाद आपको उज्ज्वला योजना का कनेक्शन मिल जायेगा.

BPL परिवारों को उज्जवला योजना के तहत 1600 रुपये प्रति कनेक्शन की मदद दी जाती है. इसके अलावा चूल्हा खरीदने और पहली बार सिलेंडर भरवाने में आने वाले खर्च को किस्‍त में चुकाने की सुविधा भी दी जाती है. यही कारण है कि साल दर साल इस योजना का बजट सरकार बढ़ा रही है जिससे ज्यादा से ज्यादा गरीब लोगों को इस योजना का लाभ मिल सके.

उज्जवला योजना के आंकड़े

Ujjwala Yojana का फायदा देश के कई गरीब परिवारों को मिल चुका है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अब तक 5 करोड़ से ज्यादा परिवार उज्जवला योजना के तहत लाभान्वित हो चुके हैं. 2021-22 में सरकार ने इसका लाभ 8 करोड़ परिवारों तक पहुंचाने का रखा है. इस स्कीम की शुरूआत 1 May 2016 को UP के बलिया में की गई थी.

उज्जवला योजना का मूल उद्देश्य क्या है

ग्रामीण इलाके में खाना पकाने के लिए परंपरागत रूप से लकड़ी और गोबर के उपले के साथ घास-पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है. इससे निकलने वाले धुएं का खराब असर महिलाओं के स्वास्थ्य पर पड़ता है. प्रधानमंत्री उज्जवला योजना (Ujjwala Yojana) से ऐसी महिलाओं को राहत मिलती है. साथ ही इससे ग्रामीण इलाके को स्‍वच्‍छ रखने में भी मदद मिलती है. आंकड़ों के मुताबिक अब तक जितने भी कनेक्शन उज्जवला योजना के तहत दिए गए हैं उनमें सबसे ज्यादा कनेक्शन ग्रामीण इलाकों में लिए गए हैं.

उत्तराखंड के चमोली में तबाही से अबतक 14 की मौत, 170 लापता, बचाव काम जारी

Related posts

Leave a Comment