‘Made in India’ कोरोना वैक्सीन की बढ़ी डिमांड, 9 देशों ने भारत से मांगी मदद

कोरोना महामारी के बीच दुनिया को इसकी वैक्सीन का बेसब्री से इंतजार है. ऐसे में कोरोना वैक्सीन को लेकर कई देश भारत का रुख कर रहे हैं. भारत वैक्सीन के उत्पादन और आपूर्ति के लिए पूरी तरह तैयार है. ब्राजील(Brazil), मोरक्को(Morroco), सऊदी अरब(South Arabic), म्यांमार(Myanmar), बांग्लादेश(Bangladesh), दक्षिण अफ्रीका(South Africa) जैसे देशों ने भारत से वैक्सीन की आधिकारिक तौर पर मांग की है.
सूत्रों का कहना है कि कोरोना वैक्सीन के वितरण में भारत सरकार बांग्लादेश, भूटान, नेपाल, श्रीलंका और अफगानिस्तान जैसे पड़ोसी देशों को तवज्जो देगी. इस बाबत विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव कहते हैं कि भारत शुरू से ही COVID-19 महामारी के खिलाफ आम लड़ाई में वैश्विक प्रतिक्रिया में सबसे आगे रहा है. हम इस दिशा में सहयोग करने को अपने कर्तव्य के तौर लेते हैं.

वहीं कोरोना वैक्सीन के लिए चल रही चर्चा के बीच, PM Modi ने शनिवार को भारत की भूमिका को दोहराया. उन्होंने कहा कि भारत में दो वैक्सीन (कोविशील्ड-कोवैक्सीन) के आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दी जा चुकी है. PM ने कहा कि पहले भारत बाहर से PPE Kit, मास्क, वेंटिलेटर और टेस्टिंग किट आयात करता था, लेकिन आज हमारा राष्ट्र आत्मनिर्भर है.

बता दें कि कई देशों ने भारत से अनुरोध किया है कि वे गवर्नमेंट टू गवर्नमेंट (G2G) के आधार पर या सीधे वैक्सीन डेवलपर्स के साथ आदेश दें, जो भारत में वैक्सीन का निर्माण कर रहे हैं.

खबरों के मुताबिक, नेपाल ने भारत से 12 Million कोरोना वैक्सीन के डोज की मांग की है. वहीं, भूटान ने पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) में निर्मित की जा रही वैक्सीन की 1 मिलियन डोज की मांग की है. म्यांमार ने भी सीरम के साथ एक खरीद अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं. उधर, बांग्लादेश ने कोविशील्ड की 30 Million डोज के लिए अनुरोध किया है.

Bird Flu से महाराष्ट्र के Parbhani जिले में 900 मुर्गों की मौत, CM उद्धव ठाकरे ने आज बुलाई आपात बैठक

Related posts

Leave a Comment