जम्मू और कश्मीर भारतीय सेना भर्ती न्यूज़- भारतीय सेना में भर्ती होने पहुंचे 29,000 युवा

जम्मू कश्मीर भारतीय सेना भर्ती न्यूज़- जैसा 370 हटने के बाद J&k में माहौल को बताया गया है वैसा वहाँ कुछ नहीं है । अभी इंडियन आर्मी भर्ती का आयोजन हुआ है और तक़रीबन 29000 युवा इस भर्ती में शामिल हुए है ।

सेना के अधिकारियों ने कहा कि भर्ती अभियान के लिए कुल 29,000 उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया है। ‘भारत माता की जय’ के नारे के बीच, उत्साही उम्मीदवार एक-दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा करते नजर आए। एक उम्मीदवार ने कहा, “हम पत्थरबाजों को संदेश भेजने के लिए सेना में होना चाहते हैं, कि हम कुछ रचनात्मक करना चाहते हैं। जम्मू कश्मीर के लोग किसी से कम नहीं हैं।”

तनाव के दावे फेल पहुंचे 29000 उम्मीदवार भर्ती के लिए

आपको बता दे की धरा 370 हटने के बाद से जम्मू और कश्मीर में तनाव का माहौल बताया जा रहा था । लेकिन Indian Army Bharti के आयोजन ने इस बात को गलत साबित कर दिया है कि  यहाँ का माहौल ठीक नहीं है ।

Jammu & Kashmir : तनाव के दावे फेल, 29000 युवा पहुंचे भारतीय  सेना  में भर्ती होने । 370 और 35A के बाद यहाँ तनाव कि खबरों के बिच जम्मू क्षेत्र के रियासी में मंगलवार को सेना में भर्ती कि साथ दिवसीय रैली शुरू कि गई है । इस भर्ती के लिए विभिन्न जिलों के 29000 से ज्यादा कैंडिडेट्स ने पंजीकरण करावा है ।जम्मू और कश्मीर भारतीय सेना भर्ती न्यूज़

J&K आर्मी भर्ती रैली- युवा शांति उत्साह और प्रगति को गले लगाना चाहते है |

जम्मू स्थित जनसंपर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहा कि यह उत्साह, शांति और प्रगति को गले लगाने की स्थानीय युवाओं की इच्छा का संकेत है। भारतीय सेना (Indian Army) का उग्रवाद निरोधक बल (वर्दी) जम्मू क्षेत्र के सात जिलों– डोडा, किश्तवाड़, राजौरी, पुंछ, उधमपुर, रामबन और रियासी के युवकों को रोजगार देने के लिए जम्मू भर्ती कार्यालय के मार्फत यह रैली कर रहा है।

Indian Army Recruitment Rally || Territorial Army Bharti 

370 और 35 A हटने के बाद पाकिस्तान कर रहा दुष्प्रचार 

दो केंद्र शासित प्रदेशो में विभाजन के बाद पाकिस्तान मिडिया के माध्यम से दुष्प्रचार कर रहा है ।

जम्मू और कश्मीर से विशेष राज्य के दर्जा वापिस लिए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है । हालांकि इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय बनाने के बहुत प्रयासों के बावजूद पाकिस्तान अपने प्रयासों में विफल रहा है. अब तो इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) में पाकिस्तानी वकील ने भी कह दिया है कि उनके कश्मीर में नरसंहार के आरोपों में कोई दम नहीं है क्योंकि उनके पास इन आरोपों को साबित करने के लिए कोई सुबूत नहीं हैं.

Related posts

Leave a Comment