Army Day 2020: 72 वां सेना दिवस, क्यों मनाया जाता है 15 जनवरी को सेना दिवस, क्यों है ये हमारे इतिहास का स्वर्णिम दिन? जानिए

आज भारत 72वां सेना दिवस (72nd Army Day) मना रहा है. यह दिन सैन्य परेडों, सैन्य प्रदर्शनियों व अन्य कार्यक्रमों के साथ नई दिल्ली व सभी सेना मुख्यालयों में मनाया जाता है| सेना दिवस (Army Day 2020) के अवसर पर पूरा देश थल सेना की वीरता, अदम्य साहस, शौर्य और उसकी कुर्बानी को याद करता है|

Indian Army Day 2020
Indian Army Day 2020

यह दिन हर साल 15 जनवरी को फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में मनाया जाता है| साल 1949 में आज ही के दिन भारत के अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल फ्रांसिस बुचर की जगह तत्कालीन लेफ्टिनेंट जनरल के एम करियप्पा मे ली थी| करियप्पा ने 1947 में भारत-पाक के बीच हुए युद्ध में भारतीय सेना की कमान संभाली थी| करियप्पा भारत के पहले सेना प्रमुख थे।

Today, India is celebrating 72nd Army Day. This day is celebrated in New Delhi and all army headquarters with military parades, military exhibitions and other events. On the occasion of Army Day 2020, the entire nation remembers the valor, indomitable courage, bravery and sacrifice of the army.

15 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है सेना दिवस

आजादी के बाद देश में कई प्रशासनिक समस्याएं पैदा होने लगी और फिर स्थिति को नियंत्रित करने के लिए सेना को आगे आना पड़ा| भारतीय सेना के अध्यक्ष तब भी ब्रिटिश मूल के ही हुआ करते थे| 15 जनवरी 1949 को फील्ड मार्शल के एम करिअप्पा स्वतंत्र भारत के पहले भारतीय सेना प्रमुख बने थे| उस समय सेना में लगभग 2 लाख सैनिक थे. केएम करियप्पा के सेना प्रमुख बनाए जाने के बाद से ही हर साल 15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाने लगा|

Indian Army Day 2020: Army Day is celebrated every year on 15 January in honor of Field Marshal KM Cariappa.

  1. केएम करियप्पा भारत के पहले सेना प्रमुख थे।
  2. केएम करियप्पा को फील्ड मार्शल की उपाधि दी गई। भारतीय इतिहास में अब तक यह उपाधि केवल दो अधिकारियों को दी गई है।
  3. उन्होंने 1947 के भारत-पाक युद्ध में पश्चिमी सीमा पर भारतीय सेना का नेतृत्व किया।
  4. 1899 में कर्नाटक के कुर्ग में पैदा हुए फील्ड मार्शल करिअप्पा ने महज 20 साल की उम्र में ब्रिटिश इंडियन आर्मी में नौकरी शुरू की।
  5. करियप्पा वर्ष 1953 में सेवानिवृत्त हुए और 1993 में 94 वर्ष की आयु में उनकी मृत्यु हो गई।

Disclaimer: All information is gathered from various internet sources.

Source: prabhatkhabar.com

Related posts

Leave a Comment