वैक्सीन न बनी तो भारत में 2021 में रोजाना कोरोना के 2.87 लाख मामले सामने आ सकते हैं

वैक्सीन ना बनी तो भारत में 2021 में कोरोना के 2.87 लाख मामले सामने आ सकते हैं। यह दावा अमेरिका के मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) के शोधकर्ताओं ने अपनी रिसर्च में किया है। इनके मुताबिक, मामले इतने बढ़े तो देश संक्रमण की चपेट में आ जाएगा। शोधकर्ताओं ने दुनिया के 84 देशों में जांच के आंकड़ों के आधार पर महामारी मॉडल विकसित किया है। यह अनुमान, दुनिया के शीर्ष 10 देशों में रोजाना संक्रमण की दर के आधार पर लगाया है।

सबसे बड़ी महामारी का अंदेशा

भारत के बाद अमेरिका, यहां रोजाना 95,400 मामले सामने आ सकते हैं

यह रिसर्च शोधकर्ता हाजिर रहमनदाद, टीवाय लिम और जॉन स्टरमैन ने मिलकर की है। शोधकर्ताओं का कहना है कि वैक्सीन नहीं बनीं तो 2021 में सर्दियों के अंत तक भारत में रोजाना कोरोना के 2.87 मामले सामने आएंगे। यह आंकड़ा दूसरे देशों से ज्यादा है। भारत के के बाद अमेरिका (95,400), दक्षिण अफ्रीका (20,600), ईरान (17,000), इंडोनेशिया (13,200), ब्रिटेन (4,200), नाइजीरिया (4,000), तुर्की (4,000), फ्रांस (3,300) और जर्मनी (3,000) का स्थान होगा। शोधकर्ताओं का कहना है कि कई देश कोरोना के सही आंकड़े नहीं जारी कर रहे।

वैैक्सीन बनाने की रेस में सबसे आगे चीन

Related posts

Leave a Comment