Heavy Rain- चित्तौड़गढ़ के स्कूल में कल से फंसे हैं 350 विद्यार्थी और 50 टीचर्स

चित्तौड़गढ़ में भारी बारिश के कारण फंसे है 350 विद्यार्थी और 50 अध्यापक

Heavy Rain – चित्तौड़गढ़ के स्कूल में कल से फंसे है 350 छात्र और 50 टीचर्स। विदाई से पहले दक्षिण – पश्चिमी मानसून फिर से सक्रिय हो गया है । ताज़ा खबर के अनुसार राणा प्रताप बांध से लगातार पानी चूड़े जाने के कारण बढ़ गई है ज्यादा परेशानी । इस बांध से पानी के भारी निर्वहन के कारण सड़क पर पानी का तेज बहाव हो रहा है । स्थानीय लोग छात्रों और शिक्षकों को सहायता और भोजन प्रदान कर रहे है । इस कारण हाड़ोती क्षेत्र दो दिन से भारी बाढ के घेराव में है ।

मानसून के चलते कोटा समेत कई जिलों में बाढ के हालत बने हुए है । मौसम विभाग ने आज भीलवाड़ा, उदयपुर, चित्तौड़गढ़, राजसमंद, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, सिरोही, कोटा, बूंदी, बारां, झालावाड़, सवाई माधोपुर और टोंक जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है।चित्तौड़गढ़ में भारी बारिश के कारण फंसे है 350 विद्यार्थी और 50 अध्यापक

कोटा और झलावर में सेना कर रही बचाव कार्य

कोटा और उदयपुर संभाग में भी तेज बारिश का दौर दूसरे दिन भी जारी रहा । राजस्थान राज्य में राज्य प्रशासन ने कोटा और झालावाड़ के बाढ ग्रसित क्षेत्रों में बचाव कार्य के लिए भारतीय सेना की सप्त शक्ति कमांड के बाढ राहत कॉलम को बुलाया गया है ।

सेना  ने  बचाव  कार्य  शुरू कर दिया है । बारिश के कारण बारां और झालावाड़ के कई बांधो से पानी बहकर सड़क पर आने लगा है । इस बारिश की वजह से घर, स्कूल और अस्पताल में लोगो को काफी परेशनियो का सामना करना पड़ रहा है ।

झालावाड़ में सोमवार को बंद रहेंगे सभी स्कूल

भारी बारिश के चलते झलावर जिले के सभी स्कूलों में सोमवार मंगलवार यानी आगे दो दिन का अवकाश घोशिर कर दिया गया है । मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी ने एक पत्र लिखकर यह आदेश जारी किया है

चित्तौरगढ़ में बाढ जैसे हालत

आपको बता दे की प्रदेश में भारी बारिश के कारण जनजीवन प्रभावित हो रहा है । कोटा में आपदा व बचाव राहत की टीमें मोके पर तैनात है । मूसलाधार बारिश से राज्य के छोटे – बड़े कई बांध ओवरफ्लो हो गए है । वही कोटा बैराज समेत अन्य बड़े बांधो के गेट खोलने पड़े है । मौसम विभाग ने आज कोटा, डूंगर और बांसवाड़ा समेत राज्य के 14 जिलों में भारी बारिश होने की चेतावनी दी है ।

मौसम विभाग के वैज्ञानिको के अनुसार मध्य प्रदेश के उत्तर – पश्चिमी इलाको में सक्रिय चक्रवाती तंत्र के कारण प्रदेश के दक्षिण पश्चिमी जिलों में कम ऊंचाई पर निम्न वायुदाब क्षेत्र सक्रिय है । इसके चलते अगले 24 घंटो में कई इलाकों में भारी बारिश होने की संभावना हैं }। कोटा बैराज के सभी 19 गेट 20 फ़ीट ऊंचाई तक खुले है और बैराज से 6 लाख 78 हजार 420 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है

Related posts

Leave a Comment