हेल्थ वर्कर को लगा कोरोना वैक्सीन से इंसानों को खतरा, नष्ट कर डाली 500 से अधिक वैक्सीन

अमेरिका के एक अस्पताल में काम करने वाले हेल्थ वर्कर ने 500 कोरोना वैक्सीन को खराब कर दिया है क्योंकि उसे लगता था कि इस वैक्सीन के चलते लोगों का DNA बदल जाएगा. हालांकि वैज्ञानिकों ने लगातार इस दावे को झुठलाया है. 46 साल के स्टीवन ब्रैंडबर्ग को इस घटना के बाद अरेस्ट कर लिया गया है.

ब्रैंडबर्ग विस्कोनसिन के ओरोरा मेडिकल सेंटर में काम करते हैं. इस शख्स ने मॉर्डेना कि Corona Vaccine डोज को फ्रीज से निकालकर पूरी रात बाहर रख दिया जिससे ये वैक्सीन खराब हो गई. ब्रैंडबर्ग ने माना कि उसने ये जानबूझकर किया है और इस घटना के बाद ब्रैंडबर्ग को नौकरी से निकाल दिया गया है और पुलिस ने इसे गिरफ्तार कर लिया है.

ब्रैंडबर्ग ने इस मामले की जांच कर रहे अधिकारियों को बताया कि उसे ऐसा लगता था कि ये वैक्सीन किसी भी तरीके से सुरक्षित नहीं है और इसके चलते इंसानों का DNA बदला जा सकता है. यही वजह है कि उसने इन वैक्सीन्स को खराब करने की कोशिश की थी. मेडिकल सेंटर ने दावा किया कि उन्हें इस वैक्सीन की 500 से अधिक वैक्सीन को फेंकना पड़ा. इस सेंटर का दावा है कि इसके चलते उन्हें 8100 पाउंड्स यानी लगभग 8 लाख का नुकसान हुआ है.

रिपोर्ट्स के अनुसार, मॉर्डेना वैक्सीन 94.5 % प्रभावी हैं और Corona Virus के लिए ये सबसे प्रभावशाली वैक्सीन्स के तौर पर इस्तेमाल की जा रही है. यूके सरकार अब तक इस वैक्सीन के 7 मिलियन डोज ऑर्डर कर चुकी है. हालांकि UK ने Pfizer और AstroZenica वैक्सीन को अप्रूव किया है और मॉर्डेना वैक्सीन को अभी लाइसेंस नहीं मिला है.

Related posts

Leave a Comment