सरकारी आंकड़े ने खोली बेरोजगारी की पोल – किसी राज्य में शून्य तो किसी में 216 लोगो को मिली नौकरी

सरकारी आंकड़े ने खोली बेरोजगारी की पोल – किसी राज्य में शून्य तो किसी में 216 लोगो को मिली नौकरी

अभी अभी केंद्र सरकार ने धानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP) के तहत के तहत विभिन्न राज्यों में सृजित नौकरियों का आंकड़ा पेश किया है । इन सरकारी आंकड़ों ने सरकार को सवालो के घेरे में खड़ा कर दिया है ।सरकारी आंकड़े ने खोली बेरोजगारी की पोल

  बता दे की केंद्र सरकार देश में बेरोजगारी की बात को पूरी तरह नकार चुकी थी लेकिन अभी सरकार के आंकड़ों के मुताबिक बेरोजगारी में इजाफा ही हुआ है, कम नहीं हुई । मौजूदा वित्त वर्ष (2019-20) में 31 अक्टूबर तक देशभर में सिर्फ 2,11,840 लोगो को नौकरी मिल पाई है ।  त्रिपुरा, केरल, जम्मू-कश्मीर, तेलंगाना और पीएम मोदी के गृह राज्य गुजरात की स्थिति सबसे खराब है ।

 

 PMEGP (पीएमईजीपी) के तहत राज्यवॉर  मिली नौकरियों की संख्या

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP) के तहत 31 अक्टूबर तक त्रिपुरा में एक भी शख़्स को नौकरी नहीं मिली. तो वहीं, केरल में सिर्फ 72, जम्मू-कश्मीर में 216, गुजरात में 264, तेलंगाना में 256, राजस्थान में 312 और दिल्ली में कुल 368 लोगों को ही नौकरी मिल पाई. इसी तरह पंजाब, झारखंड, छत्तीसगढ़ और लक्षद्वीप में भी स्थिति कुछ अच्छी नहीं है. इन राज्यों में भी पीएमईजीपी के तहत नौकरी पाने वालों की संख्या 500 से 2000 के अंदर ही है |

The situation in Jammu and Kashmir worsens, the situation in Tripura remains the same If you look at the data of jobs created under the Prime Minister Employment Generation Program (PMEGP), Jammu and Kashmir is one of the states where the situation is not very good. In 2016-17, 11691 people were employed in the state under this scheme, 30024 in 2017-18 and 1832 people in 2018-19.

But in this financial year till October 31, only 216 people have got jobs. Similarly, there has been no change in Tripura so far. In the last financial year also in the state

No one got a job under the Prime Minister Employment Generation Program.

अबतक 2,6480 प्रोजेक्ट को मिली सरकारी सहायता

दरअसल, केरल के अलपुझा से सीपीआईएम के सांसद ए.एम आरिफ ने सरकार से सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) का ब्यौरा और पिछले तीन वर्षों में केरल समेत विभिन्न राज्यों में कार्यरत व्यक्तियों की संख्या पूछी थी| इसके जवाब में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने यह आंकड़ा प्रस्तुत किया| आंकड़े के मुताबिक प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (PMEGP) के तहत 2016-17 में कुल 4.08 लाख, 2017-18 में 3.87 लाख, 2018-19 में 5.87 लाख और मौजूदा वित्त वर्ष में अबतक 2.11 लाख लोगों को नौकरी मिली है | इसी तरह, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत इस वित्त वर्ष में अबतक 26480 परियोजनाओं को सहायता दी गई है |

Related posts

Leave a Comment