कृषि कानून पर बवाल, दिल्ली में राजपथ पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लगाई ट्रैक्टर में आग

किसान कानून के खिलाफ प्रदर्शन की आग दिल्ली तक पहुंच गई है. दिल्ली के इंडिया गेट में किसानों ने ट्रैक्टर में लगा दी है आग. पंजाब और हरियाणा के बाद किसानों का प्रदर्शन देश की राजधानी में संसद के बिल्कुल पास तक पहुंच गया है. संसद के करीब इंडिया गेट पर किसानों ने टैक्टर में आग लगा दी. हालांकि प्रदर्शनकारियों को इक्कठा होने नहीं दिया गया. दिल्ली में इंडिया गेट और आस पास के VIP इलाकों में धारा 144 लागू है और कोरोना वायरस के मद्देनजर लोगों को इकट्ठा होने की इजाजत नहीं है.

पिछले दो हफ्तों से जिन किसान बिलों को लेकर संसद से सड़क तक लड़ाई छिड़ी थी, वो अब कानून बन गए हैं. लेकिन राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद भी बिल को लेकर बवाल थमा नहीं है. पंजाब में किसानों और सियासी दलों का विरोध और तेज हो रहा है. किसान संगठनों ने पंजाब में रेल रोको प्रदर्शन 29 September तक बढ़ा दिया है. बिल के खिलाफ अकाली दल जगह-जगह रैली कर रहा है.

शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती के मौके पर आज पंजाब में किसानों का आंदोलन और तेज होगा. मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भगत (Amrinder Singh Bhagat) के गांव जाएंगे जहां वो किसान आंदोलन के समर्थन में धरना भी देंगे. बिल को राष्ट्रपति की मंज़ूरी के बाद भी कांग्रेस के तेवर कड़े हैं.

“कृषि बिलों को राष्ट्रपति की मंजूरी मिलना अति दुर्भाग्यपूर्ण”

शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल ने रविवार को कृषि बिलों को राष्ट्रपति से मंजूरी मिलने के बाद इसे निराशाजनक और काफी दुर्भाग्यपूर्ण बताया. इन बिलों का किसान पंजाब में विरोध कर रहे हैं. यहां जारी एक बयान में, सुखबीर ने कहा कि यह सच में देश के लिए काला दिन है, क्योंकि राष्ट्रपति ने देश की भावना को दरकिनार कर दिया.

उन्होंने कहा, “हम काफी आशांवित हैं कि माननीय राष्ट्रपति इन बिलों को दोबारा विचार करने के लिए संसद में लौटाएंगे. यह मांग अकाली दल और कुछ विपक्षी पार्टियों की है.” इससे पहले अकाली दल का प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिला था और कृषि बिल को मंजूरी नहीं देने का आग्रह किया था.

CSK की हार पर सोशल मीडिया पर जमकर उड़ रहा है धोनी का मजाक

Related posts

Leave a Comment