DRDO ने बनाया कपड़ों को सैनेटाइज करने वाली मशीन : जर्मीक्लीन

डीआरडीओ ने बनाया कपड़ों को सैनेटाइज करने वाली मशीन ‘जर्मीक्लीन’, यह 15 मिनट में 25 जोड़ी यूनिफॉर्म सैनेटाइज करती है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने दिल्ली पुलिस की मांग पर बनाई वर्दियों को सैनेटाइज करने वाली मशीन। इसका नाम ‘जर्मीक्लीन’ रखा गया है। मशीन एक सैनेटाइज चैम्बर के रूप में तैयार किया गया है जिसमें कपड़े रखने पर वह उसे कीटाणुमुक्त बनाती है।

दिल्ली में पुलिसकर्मियों के कोरोना से धड़ल्ले से संक्रमित होने का सिलसिला अब कम हो सकता है। पुलिसकर्मियों की कोरोना से बचने के लिए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन एक जर्मीक्लीन मशीन बनाई है। इस मशीन के सहारे अब दिल्ली पुलिस कोरोना के खिलाफ जंग लड़ेगी। यही नहीं लॉ एंड आर्डर में ड्यूटी करने वाले पुलिसकर्मियों को शील्ड हेलमेट पहनना भी अनिवार्य होगा।

डीआरडीओ ने तैयार की कपड़ों को सैनेटाइज करने वाली मशीन 'जर्मीक्लीन'

डीआरडीओ ने पुलिस के लिए तैयारी की शील्ड 

यही नहीं डीआरडीओ ने पुलिस के लिए शील्ड को तैयार किया है जो मास्क की शक्ल में होगा। जिसे अब पुलिसकर्मी पहनेंगे और इस बीमारी से लड़ेंगे। दावा है कि इन उपायों से पुलिस विभाग में कोरोना संक्रमण कम होगा और इनकी रक्षा भी पूरी तरह से हो जाएगी। नाथ फाउंडेशन ने दिल्ली पुलिस के साथ इस क्रम में हाथ बढ़ाया है। फाउंडेशन ने राजधानी के सभी जिलों की पुलिस यूनिट के लिए 1000 हेलमेट शील्ड 10, 000 से अधिक मास्क और जरूरी सामान दिया है।

15 मिनट में सेनिटाइज होगी 25 जवानों की वर्दी

डीआरडीओ द्वारा दिल्ली पुलिस को दी गई जर्मीक्लीन मशीन वाशिंग मशीन की तरह है। जिसमें 15 मिनट के लिए वर्दी को डाला जाएगा। यह मशीन ऑटोमेटिक है। इस मीशी के जरिए अब सड़कों पर निकलने वाला जवान अपनी ही वर्दी से संक्रमित नहीं होगा। इस संबंध में प्रवक्ता ने कहा कि कोरोना काल में दिल्ली पुलिस के जवान लंबी ड्यूटी कर रहे हैं। इस दौरान वो कितने ही लोगों के संपर्क में आते हैं। कपड़ों पर भी कोरोना के चिपके रहने का खतरा रहता है। ऐसे में ये मशीन बनवाई गई है, जिससे काफी हद तक जवानों को सुरक्षित रखा जा सकेगा।

भारत में बढ़ी कोरोना की रफ्तार

Related posts

Leave a Comment