दिल्ली: किसान हटेंगे या डटेंगे? अमित शाह के प्रस्ताव पर आज 11 बजे होगी बैठक

केंद्र सरकार के 3 नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन शनिवार को लगातार तीसरे दिन भी जारी रहा. सभी प्रदर्शनकारी किसान सिंधु और टिकरी बॉर्डर पर डटे हैं. किसान आंदोलन का आगे क्या रुख होगा, इसको लेकर रविवार को सुबह 11 बजे के करीब एक बैठक होगी. उसके बाद ही तय होगा कि किसान बॉर्डर पर डटे रहेंगे या सुरक्षित इलाके में जाएंगे.

वहीं गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने कहा है कि अगर किसान चाहते हैं कि भारत सरकार उनसे जल्दी बात करे तो उन्हें आंदोलन के लिए निर्धारित जगह पर जाना होगा. जैसे ही किसान सिंधु और टिकरी बॉर्डर से हटेंगे, उसके दूसरे ही दिन भारत सरकार उनसे बातचीत के लिए तैयार रहेगी.

गृह मंत्री के जवाब में किसान नेता जगजीत सिंह (Jagjeet Singh) और शिवकुमार कक्का (Shivkumar Kaka) ने कहा है कि हम सरकार के साथ बातचीत करने को तैयार हैं, लेकिन शर्त नहीं होनी चाहिए. किसान नेताओं का कहना है कि हमें इस बात का दुख है कि (Amit Shah) ने कंडीशन लगाई है कि पहले आपको एक जो जगह दी गई है वहां जाना चाहिए. उसके बाद बातचीत होगी. यह ठीक नहीं है.

किसान नेताओं ने कहा कि बातचीत से ही समस्या का समाधान निकलता है. यह हम मानते हैं, लेकिन अमित शाह ने जो भी कहा है उस पर कल बैठक होगी. हम विचार करेंगे कि हमें आगे क्या करना है.

इससे पहले किसानों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन के लिए राष्ट्रीय राजधानी के सबसे बड़े मैदानों में से एक संत निरंकारी ग्राउंड की पेशकश की गयी थी. केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) ने किसानों का समर्थन करते हुए कहा था कि सभी किसान भाई निरंकारी ग्राउंड में इकट्ठा हो जाएं. वहीं से अपनी बात रखें. यहां पर उनके खाने-पीने और रहने संबंधी सभी इंतजाम किए जा रहे हैं. शनिवार रात को AAP विधायक अमानतुल्लाह खान निरंकारी समागम ग्राउंड पहुंचे और यहां पर मौजूद किसानों का हाल चाल लिया.

उन्होंने कहा कि विधायक और कार्यकर्ता यह देखने और सुनिश्चित करने आए हैं कि यहां मौजूद किसानों को खाने या रहने की कोई दिक्कत ना हो. ये लोग जब तक यहां रहेंगे हमलोग उनका पूरा ख्याल रखेंगे.

देश के तीन वैक्सीन सेंटरों का आज दौरा करेंगे PM मोदी, अहमदाबाद, पुणे और हैदराबाद जाएंगे

Related posts

Leave a Comment