देश की पहली कोरोना वैक्सीन COVAXIN का इंसानों शुरू हुआ ट्रायल, 30 साल के युवक को दिया पहला डोज

कोरोना वायरस का कहर दुनिया भर में जारी है। देश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 10,40,970 पहुंच गई है। पिछले 3 दिनों में देश में एक लाख से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए देश भर के वैज्ञानिक वैक्सीन की खोज में लगे हुए हैं। इस महामारी के तेजी से फैलने का यही कारण है कि इसे अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बन पाई है।

इस बीच पटना एम्स में पहली बार इस महामारी से जीतने के लिए वैक्सीन COVAXIN तैयार करने की कवायद शुरू कर दी है। कोरोना वैक्सीन हैदराबाद कि भारत बायोटेक कंपनी और आईसीएमआर ने बनाई है। उन्होंने बताया कि इस वैक्सीन का पटना एम्स समेत देश के 12 और संस्थानों में ट्रायल होना है। इसकी शुरुआत पहले पटना एम्स से हुई है।

देश की पहली कोरोना वैक्सीन COVAXIN का इंसानों शुरू हुआ ट्रायल

देश में पहली बार किसी वैक्सीन का इंसानों में ट्रायल – Patna AIIMS

देश में पहली बार किसी वैक्सीन का इंसानों में ट्रायल हो रहा है। देश में सबसे पहले Patna AIIMS में कोरोना वैक्सीन का 30 साल के युवक पर इस वैक्सीन का ट्रायल किया और हॉफ एमएल डोज दिया गया इंसानों पर ट्रायल किया है।

Bharat Biotech ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के साथ मिलकर यह ट्रायल किया। आज 6 लोगों पर होगा ट्रायल, इसके लिए 18 लोगों का टेस्ट हो चुका है। अभी तक कोरोना वैक्सीन का ऐसा ट्रायल देश के किसी भी संस्थान में नहीं हुआ है। वैक्सीन देने के बाद करीब 4 घंटे तक उसे ऑब्जर्वेशन में रखा गया, फिर घर भेज दिया गया। सात दिन के बाद फिर इसी शख्स को बुलाया गया है। डॉक्टर के मुताबिक 14 दिन के बाद फिर इन्हें 2nd डोज दिया जाएगा।

देश में अभी तक ऐसा ट्रायल किसी भी संस्थान में नहीं हुआ है। Patna AIIMS के निदेशक प्रभात कुमार सिंह ने बताया कि अब तक 18 लोगों का टेस्ट किया गया था जिनमें से 8 लोगों को डोज दिया जा चुका है। अभी और लोग आने बाकी हैं जिन्हें ये डोज दिया जाएगा।

ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने बनाई डेक्सामैथासोन दवा, कोरोना के इलाज की नई दवा का दावा

Related posts

Leave a Comment