निर्भया गैंगरेप- दर्दनाक दास्तां सुनाने के लिए एक लाख रुपये लेता था उसका दोस्त

निर्भया गैंगरेप- निर्भया की दर्दनाक दास्तां सुनाने के लिए एक लाख रुपये लेता था उसका दोस्त
दरिंदगी की दास्तां सुनाने के पैसे लेता था उसका दोस्त

दोस्तों आज निर्भया गैंगरेप को सात साल हो गए है लेकिन Nirbhaya Gang Rape  सात साल बाद एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है । एक पत्रकार ने खुलासा किया है किनिर्भया कि दर्दनाक दास्तां सुनाने के लिए एक लाख रूपये लेता था उसका दोस्त । खबर के अनुसार टीवी चैनलो पर आने के बदले अपने चाचा के साथ मिलकर लड़का एक एक लाख रूपये कि डील करता था ।

दिसंबर 2012 में हुई निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gang Rape) कि घटना ने पुरे देश को हिलाकर रख दिया था । इस घटना को सात साल बीते जानके बाद फिर से निर्भया हत्याकांड से जुड़ा एक बड़ा खुलासा हुआ है ।

वरिष्ठ टीवी पत्रकार अजित अंजुम (Ajit Anjum) ने इस केस से जुड़ा बड़ा खुलासा किया है । उन्होंने कहा कि अपने दोस्त के साथ हुई गैंगरेप (निर्भया Gang Rape) कि दर्दनाक दास्तां सुनाने के बदले घटना के समय साथ रहा उसका दोस्त टीवी चैनलो से प्यासे लेता था । निर्भया का दोस्त अपने चाचा के साथ मिलकर इस घटना को बया करने के लिए लोगो से लाखो में डील करता था । लड़की के दोस्त को बेनकाब करने के लिए उन्होंने सितंबर 2013 में स्टिंग भी कराया था, मगर उस स्टिंग (Sting Operation) को उन्होंने टीवी चैनल पर न चलाने का फैसला किया था |

दिसंबर 2012 में हुई निर्भया गैंगरेप की घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था.

निर्भया के दोस्त का पैसा लेते हुए कैमरे में कैद वीडियो होने के बावजूद उस वक्त स्टिंग न प्रसारित करने के पीछे की वजह बताते हुए अजीत अंजुम ने आईएएनएस से कहा, ‘चूंकि निर्भया का दोस्त घटना का मुख्य चश्मदीद था, इस नाते मुझे लगा कि चैनल को घटना की कहानी सुनाने के बदले दोस्त के पैसे लेने का स्टिंग दिखाने पर देश को झकझोर देने वाला निर्भया केस प्रभावित हो सकता है. आरोपी पक्ष के वकील स्टिंग का दुरुपयोग कर सकते हैं, मीडिया के लिए टीआरपी नहीं पत्रकारीय मूल्य, संपादकीय गरिमा और संवेदनशीलता ज्यादा जरूरी है.

इतने सालो बाद ही खुलासा क्यों

दरअसल पत्रकार अजीत अंजुम एक वेबसीरीज देखने के बाद खुद को नहीं रोक सके ।  दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को हुए इस गैंगरेप पर बानी वेबसीरीज “Delhi Crime” को देखकर वो विचलित हो उठे और फिर उन्होंने बरसो से सीने में छुपाये राज को बयां करने का फैसला किया ।

सोशल मीडिया पर शेयर की पत्रकार ने मेसेज और इमेजेज ।

एक लाख रुपये लेकर स्टूडियो में आता था निर्भया का दोस्त

उन्होंने कहा, मैं इस बात पर बौखलाया था कि जिस लड़के के सामने उसकी गर्लफ्रेंड गैंगरेप और दरिंदगी की शिकार होकर दुनिया से रुखसत हो गई हो उसकी दास्तान सुनाने के बदले वो लड़का चैनलों से ‘डील’ कर रहा है. उन्होंने कहा, मेरे रिपोर्टर ने मेरे सामने बैठकर मोबाइल से उस लड़के के चाचा से बात की. उसने एक लाख लेकर स्टूडियो में आने की बात की. कम करके 70 हजार रुपये पर बात तय हुई. मैंने सोचा कि कहीं चाचा तो भतीजे के नाम पर पैसे नहीं ले रहा? मैं चाहता था कि पैसे उस लड़के के सामने दिए जाएं.” निर्भया के उस ‘दोस्त’ के सामने स्टूडियो इंटरव्यू के लिए 70 हजार रुपये दिए गए. खुफिया कैमरे में सब रिकार्ड हुआ. फिर उसे स्टूडियो ले जाया गया. दस मिनट की बातचीत के बाद ऑन एयर ही उस लड़के से पूछा गया कि आप निर्भया की दर्दनाक दास्तान सुनाने के लिए चैनलों से पैसे क्यों लेते हो?

स्टिंग देखकर उड़ गए थो पीड़िता के दोस्त के होश

उन्होंने कहा, “हमने तय किया था कि ये शो पहले रिकार्ड करेंगे, फिर तय करेंगे कि क्या करना है. वो लड़का पैसे लेने की बात से इंकार करता रहा, फिर रिकार्डिग के दौरान ही उस लड़के को ऑन स्क्रीन ही उसके स्टिंग का हिस्सा दिखाया गया, तब उसके होश उड़ गए, कैमरों के सामने उसने माफी मांगी. अजीत अंजुम ने आईएनएस से कहा, मैंने लड़के से कहा था कि अगर तुमने फिर किसी चैनल पर इंटरव्यू दिया तो एक्सपोज कर दूंगा, तब से वह नजर नहीं आया.

Related posts

Leave a Comment