Babri Masjid Demolition Case: कोर्ट ने आडवाणी-जोशी समेत अन्य को मौजूद रहने के लिए कहा

बाबरी विध्वंस मामले में CBI की विशेष अदालत 30 सितंबर को फैसला सुनायेगी. सीबीआई के विशेष जज एस के यादव ने लालकृष्ण आडवाणी, कल्याण सिंह, एमएम जोशी, और उमा भारती समेत सभी आरोपियों को फैसले के दिन अदालत में उपस्थित रहने के निर्देश दिये हैं.

CBI के वकील ललित सिंह (Lalit Singh) ने बताया कि अभियोजन पक्ष और बचाव पक्ष दोनों की बहस 1 सितंबर को समाप्त हो गयी, उसके बाद विशेष जज ने फैसला लिखना आरंभ कर दिया था. CBI ने इस मामले में 351 गवाह और 600 दस्तावेजी सबूत अदालत के समक्ष पेश किये हैं.

कोर्ट ने आडवाणी-जोशी समेत अन्य को मौजूद रहने के लिए कहा

6 दिसम्बर 1992 को विवादित ढांचा विध्वंस के इस मामले में पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, BJP नेता विनय कटियार, महंत नृत्य गोपाल दास और साध्वी रितम्बरा समेत कुल 32 अभियुक्त हैं.

इससे पहले सभी आरोपियों की सुनवाई के दौरान ऑनलाइन पेशी हुई थी. बाबरी विध्वंस मामले में अदालत का फैसला 28 साल बाद आ रहा है. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने मामले से संबंधित मुकदमा 30 September तक पूरा करने का आदेश दिया था, लिहाजा विशेष अदालत का पूरा प्रयास है कि उक्त समयसीमा तक मामले में फैसला सुना दिया जाए.

चीन से LAC पर बढ़ा तनाव, मोदी सरकार ने आज शाम बुलाई सर्वदलीय बैठक

Related posts

Leave a Comment