55 साल बाद भारत-बांग्लादेश के बीच चलेगी ट्रेन, 17 दिसंबर को मोदी-हसीना करेंगे उद्घाटन

भारत और बांग्लादेश के बीच 55 साल बाद फिर से रेल मार्ग खोला जाएगा. 17 दिसंबर को पश्चिम बंगाल (West Bengal) के हल्दीबाड़ी (Haldibari) और पड़ोसी बांग्लादेश के चिल्हाटी के बीच का रेल मार्ग का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना करेंगी. इसकी पुष्टि नॉर्थईस्टफ्रंटियर रेलवे के अधिकारियों ने की है.

कूच बिहार के हल्दीबाड़ी से उत्तरी बांग्लादेश के चिल्हाटी तक की रेल लाइन भारत और फिर पूर्वी पाकिस्तान के बीच 1965 में रेल संपर्क टूटने के बाद खराब हो गई थी. NRF के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुभान चंदा ने कहा कि PM Narendra Modi और उनके बांग्लादेशी समकक्ष शेख हसीना 17 दिसंबर को हल्दीबाड़ी-चिल्हाटी रेल मार्ग का उद्घाटन करेंगे.

सुभान चंदा ने कहा कि चिरहटी से हल्दीबाड़ी तक एक मालगाड़ी चलेगी, जो कि NRF के कटिहार डिवीजन के अधीन है. कटिहार के मंडल रेल प्रबंधक रविंद्र कुमार वर्मा ने कहा कि रेल मंत्रालय ने मंगलवार को रेल मार्ग को फिर से खोलने के निर्णय की सूचना अधिकारियों को दी.

NRF के सूत्रों ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय सीमा से हल्दीबाड़ी रेलवे स्टेशन की दूरी 4.5 KM है, जबकि बांग्लादेश के चिल्हाटी की दूरी जीरो प्वॉइंट से 7.5 KM के आसपास है. हल्दीबाड़ी और चिल्हाटी दोनों स्टेशन सिलीगुड़ी (Siligudi)और कोलकाता (Kolkata) के बीच पुराने ब्रॉड गेज रेलवे मार्ग पर थे, जो वर्तमान बांग्लादेश में क्षेत्रों से होकर गुजरते थे.

इस रूट पर यात्री ट्रेन सेवा शुरू होने से कोलकाता से जलपाईगुड़ी (Jalpaiguri) जाने वाले लोगों केवल 7 घंटे का समय लगेगा. पहले 12 घंटे लगता था यानी 5 घंटे की बचत. गुवाहाटी के मालीगांव में स्थित NEF का मुख्यालय पूरे पूर्वोत्तर क्षेत्र और बिहार और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों को कवर करता है.

4 दिन में दूसरी बार 30,000 से कम नए केस आए, देश में अबतक 98 लाख लोग संक्रमित

Related posts

Leave a Comment