निकाह के लिए बालिग होना जरूरी नहीं, 18 से कम उम्र की लड़की खुद चुन सकती है जीवनसाथी

मुस्लिम लड़कियों की शादी को लेकर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट (Punjab and Haryana High Court) ने अहम फैसला सुनाया है. हाई कोर्ट ने कहा है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ (Muslim Personal Law) के तहत 18 वर्ष से कम उम्र की लड़की अपनी मर्जी से किसी भी लड़के से निकाह कर सकती है और कानूनी रूप से परिवार इसमें दखलअंदाजी नहीं कर सकता. निकाह के लिए लड़की का बालिग होना जरूरी नहीं है. यदि लड़की युवा हो चुकी है, तो उसे अपना जीवनसाथी चुनने का पूरा अधिकार है.

एक मुस्लिम दंपती की याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस अलका सरीन ने बुधवार को यह टिप्पणी की. दरअसल, पंजाब के मोहाली में रहने वाले 36 साल के मुस्लिम व्यक्ति ने 21 जनवरी को 17 साल की नाबालिग लड़की से निकाह किया था. प्रेमी जोड़े के फैसले से उनके परिजन काफी नाराज हैं. इस वजह से दोनों ने हाई कोर्ट से सुरक्षा की मांग की है.

प्रेमी जोड़े ने अपनी याचिका में कहा कि उन्होंने मुस्लिम रीति-रिवाज से निकाह किया है, लेकिन दोनों के परिवार इससे नाराज हैं. उन्हें परिवार वालों से अपनी जान का खतरा है. उन्होंने सुरक्षा के लिए मोहाली पुलिस  से भी गुहार लगाई थी, लेकिन पुलिस ने कोई मदद नहीं की. इसलिए उन्हें मजबूर होकर कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा.

लड़की के घरवालों ने अदालत में दलील दी कि वो बालिग नहीं है, ऐसे में उसकी शादी वैध न मानी जाए. लेकिन बचाव पक्ष ने तर्क दिया गया कि मुस्लिम पर्सनल लॉ के तहत 15 साल की मुस्लिम लड़की विवाह करने के योग्य हो जाती है. जिसके बाद अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि लड़की अपने पति के साथ रह सकती है. साथ ही कोर्ट ने मोहाली के SSP को दंपती को सुरक्षा देने का आदेश भी दिया.

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद की तारीफ में रो-रोकर पीएम मोदी ने गढ़े कसीदे

Related posts

Leave a Comment